किसानों के लिए कृषि मंत्री ने किया सीड ट्रेसबिलिटी मोबाइल एप लांच

 


गुण नियंत्रण एवं डीएनए प्रयोगशाला का भी शुभारंभ

बीज के क्षेत्र में काम करने वालों की अहम जवाबदारी- श्री तोमर

नई दिल्ली : केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण, ग्रामीण विकास, पंचायत राज तथा खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने गुरूवार को राष्‍ट्रीय बीज निगम द्वारा लाभांश वितरण के अवसर पर सीड ट्रेसबिलिटी मोबाइल एप लांच किया। इस एप के माध्यम से असली बीजों की जानकारी मिलेगी और किसान धोखाधड़ी से बच सकेंगे। कार्यक्रम में श्री तोमर ने गुण नियंत्रण एवं डीएनए प्रयोगशाला का शुभारंभ भी किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि खेती के क्षेत्र में बीज की बड़ी महत्ता है, ऐसे में बीज के क्षेत्र में काम करने वालों की बहुत अहम जवाबदारी होती है।

पूसा स्थित राष्‍ट्रीय बीज निगम (एनएससी) के मुख्‍यालय में आयोजित समारोह में अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक श्री विनोद कुमार गौड़ ने भारत सरकार के लिए लगभग नौ करोड़ रूपए के लाभांश का चेक मंत्री मंत्री श्री तोमर को सौंपा। कार्यक्रम में श्री तोमर ने श्री शंकरन द्वारा संपादित पुस्तक एनएससीस जर्नी इन द सर्विस आफ फार्मर्स नामक पुस्‍तक का विमोचन किया। इसमें एनएससी की स्‍थापना से लेकर अब तक की प्रमुख उपलब्‍धियों को संजोया है। श्री तोमर ने कहा कि व्यक्ति हो या संस्था, दोनों के सफर के स्मरण को संजोना बहुत ही सुखद होता है।

श्री तोमर ने कहा कि एनएससी के पास भूमि का काफी बड़ा रकबा है, जिसका अधिकाधिक उपयोग किया जाना चाहिए। उपलब्ध योजनाओं के माध्यम से सफलता प्राप्त कर आगे बढ़ सकते है। एनएससी कम दाम पर गुणवत्तायुक्त बीज किसानों को उपलब्ध करा रहा है, यह देश के लिए बड़ा काम है, जिसे आगे बढ़ाया जाना चाहिए। उन्होंने इस दिशा में प्रगति के लिए एक रोडमैप बनाने का सुझाव दिया। श्री तोमर ने कहा कि सीड ट्रेसबिलिटी मोबाइल एप मील का पत्थर साबित होगा।

कार्यक्रम में कृषि राज्य मंत्री श्री परषोत्तम रूपाला ने कहा कि कृषि की शुरूआत बीज से होती है। वैरायटी सीड्स की ज्यादा मात्रा में किसानों को उपलब्धता सस्ते दामों में सुनिश्चित करना चाहिए। उन्होंने एनएससी के फार्मों के लिए प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना का लाभ लेने का सुझाव दिया।  

कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी ने कहा कि खाद्यान्न की आत्मनिर्भरता में किसानों व वैज्ञानिकों के साथ ही एनएससी का भी बड़ा योगदान है। उन्होंने कहा कि नई लैब व एप से किसानों को काफी लाभ होगा।

प्रारंभ में सीएमडी ने एनएससी की गतिविधियां व उपलब्धियां बताईं। एनएससी ने विभिन्‍न कदम उठाकर दुर्गम व दूरस्‍थ क्षेत्रों के किसानों को अनाजों, दलहन-तिलहन, चारा, सब्‍जी बीज आदि की सभी महत्‍वपूर्ण फसलों के गुणवत्‍ता बीजों की पर्याप्‍त मात्रा उपलब्‍ध करवाने के सरकार के उद्देश्‍य को पूरा किया है व गुणवत्‍तापूर्ण बीजों के भरोसेमंद आपूर्तिकर्ता के रूप में अपनी प्रतिष्‍ठा को कायम किया है। वर्ष 2019-20 में एनएससी की कुल आय 1085.44 करोड़ रू. रही है एवं कर पूर्व लाभ रू. 60.88 करोड़ रहा है।