एमएसएमई उद्योग को संकट से उबारें पीएम मोदी : विपिन मल्हन

 कच्चे माल के दाम में उछाल से उद्योगों के सामने अस्तित्व का संकट, कालाबाजारी की आशंका


नोएडा। नोएडा एंटरप्रिन्योर्स एसोसिएशन (एनईए) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र भेजकर कच्चे माल के दामों में बेतहाशा वृद्धि पर चिंता जताई है। एनईए के अध्यक्ष विपिन मल्हन ने कहा है कि कोरोना और लॉकडाउन के कारण पहले से ही संकट के दौर से गुजर रहे सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योगों के सामने कच्चे माल के दाम में वृद्धि से अस्तित्व का संकट पैदा हो गया है। ऐसे हालात में उन्हें आर्थिक मदद की सख्त जरूरत है। 

एनईए अध्यक्ष विपिन मल्हन ने पीएम नरेंद्र मोदी को भेजे पत्र में कहा है कि  

वर्तमान में कोविड-19 जैसी महामारी के कारण उद्योग बुरी तरह प्रभावित हुए हैं। उद्यमियों को इस संकट से उबरने में काफी समय लगेगा। उसके लिए भी उन्हें आर्थिक मदद की आवश्यकता है। इस संकट के बीच प्लास्टिक, आयरन, एल्यूमिनियम, केमिकल आदि से तैयार होने वाले उत्पाद में काम आने वाले कच्चे माल की दरें बढ़ने से सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम श्रेणी के उद्योगों के सामने संकट और गहरा गया है। ऐसा लग रहा है कि कच्चे माल की दरों में अत्यधिक वृद्धि का मुख्य कारण कालाबाजारी है। उन्होंने कहा कि प्लास्टिक, आयरन, एल्यूमिनियम और केमिकल आदि से तैयार होने वाले उत्पाद को बनाने में काम आने वाला कच्चा माल महंगा होने के कारण उद्यमी अपना कारोबार सुचारू रूप से नहीं चला पा रहे हैं। 

विपिन मल्हन ने प्रधानमंत्री के साथ ही सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग मंत्री नितिन गडकरी से कच्चे माल के रूप में प्रयोग होने वाली सामग्री जैसे प्लास्टिक, आयरन, एल्यूमिनियम और केमिकल आदि के दामों में हुई वृद्धि को रोकने के लिए उचित कदम उठाने का अनुरोा किया है। उन्होंने कहा कि तत्वरित कार्रवाई कर कालाबाजारी को भी रोका जाए, जिससे उद्योगों को सस्ते दर पर कच्चे माल की उपलब्धता सुनिश्चित हो सके।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हल्के और मध्यम कोविड-19 संक्रमण के इलाज में कारगर है ‘आयुष-64’

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव

आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए हुआ " श्रीमती माधुरी सक्सेना कंप्यूटर शिक्षण केंद्र" का उद्घाटन