अब दो नहीं, 5 रनवे वाला होगा नोएडा ग्रीनफील्ड इंटरनेशनल एयरपोर्ट

 

 मुख्य सचिव की अध्यक्षता में हुई प्रोजेक्ट मॉनिटरिंग इंप्लीमेंटेशन कमेटी की बैठक में फैसला

- नायल के सीईओ डा. अरुणवीर ङ्क्षसह के प्रजेंटेशन को कमेटी की मंजूरी

लखनऊ/ ग्रेटर नोएडा। मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी की अध्यक्षता में नोएडा ग्रीनफील्ड इंटरनेशनल एयरपोर्ट के लिए गठित प्रोजेक्ट मॉनिटरिंग इंप्लीमेंटेशन कमेटी (पीएमआईसी) की बैठक गुरुवार को लोकभवन में सम्पन्न हुई। उसमें पांच रनवे बनाने की संस्तुति की गई। 

बैठक में परामर्शदाता संस्था पीडब्ल्यूसी और नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (नायल) व यमुना प्राधिकरण के सीईओ डा. अरुण वीर सिंह ने प्रस्तुतीकरण दिया। इसमें कुल 05 रनवे की फीजिबिलिटी बतायी गई। प्रजेंटेशन में डा. अरुण वीर सिंह ने बताया कि वर्तमान में दो रनवे के अतिरिक्त 03 और रनवे बनाए जा सकते हैं। इस पर गहन विचार-विमर्श के बाद मुख्य सचिव की अध्यक्षता वाली पीएमआईसी ने 05 रन वे बनाए जाने और वित्त की उपलब्धता होने पर भूमि अधिग्रहण करने की संस्तुति मंत्रिपरिषद के लिए कर दी। 

जेवर में बनने वाले एयरपोर्ट के दो रनवे को बढ़ाकर पहले 4 से 6 रनवे किए जाने के सम्बन्ध में तकनीकी परामर्शदाता के अध्ययन की रिपोर्ट प्रस्तुत की गई थी। बैठक में बताया गया कि वर्तमान में दो रनवे के नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट, जेवर के विकास के लिए ग्लोबल ई-बिडिंग में माध्यम से विकासकर्ता के रूप में ज्यूरिक एयरपोर्ट इंटरनेशनल एजी का चयन किया जा चुका है। बीती 07 अक्टूबर को कन्शेसन एग्रीमेंट ज्यूरिक एयरपोर्ट और राज्य सरकार की कंपनी नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (नायल) के मध्य हस्ताक्षरित हो चुका है।


प्रथम चरण में तीसरे रनवे के लिए 1365 हेक्टयर भूमि का अधिग्रहण होगा। प्रथम चरण के दो रनवे के लिए 1334 हेक्टयर भूमि का अधिग्रहण किया जा चुका है। दूसरे चरण में तीन रनवे के लिए कुल 3418 हेक्टयर और भूमि की जरूरत होगी। दूसरे चरण के प्रथम फेज में 1365 हेक्टेयर, दूसरे फेज में 1318 हेक्टेयर और तीसरे फेज में 735 हेक्टेयर की भूमि सम्मिलित होगी। पांच रनवे के जेवर एयरपोर्ट में कुल 4752 हेक्टयर की भूमि सम्मिलित होगी। 

अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त आलोक टण्डन और अपर मुख्य सचिव मुख्यमंत्री एवं नागरिक उड्डयन एसपी गोयल ने भी जेवर एयरपोर्ट के विस्तार के लिए भूमि अधिग्रहण करने की आवश्यकता बतायी। 

बैठक में प्रमुख सचिव न्याय जेपी सिंह, विशेष सचिव मुख्यमंत्री एवं नागरिक उड्डयन सुरेंद्र सिंह और वीडियो कॉन्फें्रसिंग के माध्यम से अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त आलोक टण्डन, सीईओ नोएडा प्राधिकरण ऋतु माहेश्वरी, सीईओ ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण नरेन्द्र भूषण एवं अन्य सम्बन्धित अधिकारीगण आदि शामिल थे।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हल्के और मध्यम कोविड-19 संक्रमण के इलाज में कारगर है ‘आयुष-64’

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव

आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए हुआ " श्रीमती माधुरी सक्सेना कंप्यूटर शिक्षण केंद्र" का उद्घाटन