शासन ने बनाई निजी अस्पतालों की निगरानी के लिए तीन सदस्यीय कमेटी 

 प्रोटोकॉल के तहत इलाज न होने और अधिक बिल वसूली की मिली रही शिकायतें


नोएडा। गौतमबुद्धनगर नगर जिले के निजी अस्पतालों में प्रोटोकॉल के तहत इलाज हो रहा है या नहीं और निजी अस्पताल मरीजों का ठीक से उपचार कर रहे हैं या नहीं, इस बात की निगरानी के लिए एक तीन सदस्यीय कमेटी शासन स्तर से बनाई गई है।


मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. दीपक ओहरी ने बताया कि कोरोना वायरस की तीसरी लहर और गौतमबुद्ध नगर जिले में बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए उत्तर प्रदेश शासन ने तीन सदस्यीय कमेटी का गठन किया है। यह कमेटी निजी कोविड-19 अस्पतालों में मरीजों के इलाज की गुणवत्ता तथा उचित इलाज व अन्य बिंदुओं को परखेगी। कमेटी अपनी रिपोर्ट शासन को देगी। रिपोर्ट नकारात्मक होने पर निजी कोविड-19 अस्पताल में मरीजों के उपचार की प्रक्रिया में फेरबदल किया जा सकता है। 


सीएमओ ने बताया कि जनपद में यथार्थ, फोर्टिस, कैलाश और जेपी आदि अस्पतालों में कोविड-19 के मरीजों का उपचार किया जा रहा है। इन अस्पतालों में मरीजों के उपचार की दर निर्धारित है। अस्पताल प्रबंधक प्रोटोकॉल के तहत ही मरीजों का इलाज करने का दावा करते हैं। लेकिन, कई बार यह शिकायत आती है कि अस्पताल प्रबंधन मरीजों का इलाज ठीक तरह से नहीं कर रहे हैं। इलाज का खर्च भी ज्यादा लेने की शिकायतें आ रही थीं। उन्होंने बताया कि इस शिकायत के चलते उत्तर प्रदेश शासन ने निजी अस्पतालों में मरीजों के इलाज की गुणवत्ता का मूल्यांकन करने का निर्णय लिया है। 


डॉ. दीपक ओहरी ने बताया कि शासन स्तर से बनाई गई कमेटी में जिलाधिकारी का एक प्रतिनिधि, मुख्य चिकित्सा अधिकारी का एक प्रतिनिधि तथा एक मेडिकल कॉलेज का प्रतिनिधि शामिल है। उन्होंने बताया कि टीम का मुख्य कार्य निजी कोविड-19 अस्पतालों में मरीजों को मिलने वाले उपचार पर है। टीम के सदस्य समीक्षा के दौरान प्रत्येक अस्पताल में जाकर मरीजों को मिलने वाले इलाज की स्थिति देखेंगे। मरीजों से पूछेंगे कि उपचार के नाम पर मनमाना बिल तो तैयार नहीं किया जा रहा है। कुछ अस्पतालों में मरीजों को निश्चित समय अवधि गुजरने के बाद भी जबरन भर्ती किए जाने की शिकायत मिली है। उस संबंध में भी मरीजों से जानकारी ली जाएगी। 


सीएमओ ने बताया कि कई निजी अस्पतालों में कोरोना वायरस की आरटी- पीसीआर और एंटीजन जांच के लिए ज्यादा पैसे वसूले जाने की शिकायतेें मिल रही हैं। वहीं, कुछ अस्पतालों में कोरोना की जांच व इलाज के बिल में ज्यादा वसूली की शिकायतें सामने आ रही है। इलाज के नाम पर लाखों रुपये का बिल अस्पताल में बनाया जा रहा है। यह बिल असली है या फर्जी, कमेटी इसकी भी जांच करेगी। 


उन्होंने बताया कि जिले में करोना संक्रमण के ग्राफ में बढ़ोत्तरी हुई है। इसे रोकने के लिए दिल्ली बॉर्डर पर प्रशासन द्वारा जांच शुरू कर दिया गया है। होम आइसोलेट करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। भविष्य में कोरोना मरीजों की संख्या कहीं तेजी से ना बढ़ जाए, इस दिशा में कोविड-19 अस्पतालों में बेड की संख्या की भी समीक्षा की जा रही है। उन्होंने बताया कि जनपद में कोविड-19 के अस्पतालों में बेड की संख्या 2411 है। इनमें से 911 बेड पर संक्रमित भर्ती हैं। जबकि 1500 बेड खाली हैं। वहीं, किसी भी आपात स्थिति में सरकारी या निजी संस्थानों में संपर्क कर बेड की संख्या 4000 तक बढ़ाई जा सकती है। उन्होंने बताया कि इसके लिए सारी तैयारियां की गई हैं। सीएमओ ने बताया कि कोविड-19 के संक्रमण से डरने की बजाय सावधान रहने की जरूरत है। उन्होंने बताया कि जनपद में कोविड-19 के मरीजों के उपचार की भरपूर व्यवस्था है। अभी तक 3,658 मरीजों को होम आइसोलेट किया जा चुका है, जबकि वर्तमान में 490 मरीज घरों में रहकर उपचार करा रहे हैं। उन्होंने बताया कि होम आइसोलेशन के समय मरीजों का ध्यान अच्छी तरह से रखा जा रहा है।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

*सेक्टर १२२ में लेडीज़ क्लब ने धूमधाम से मनाई - डांडिया नाइट *

हल्के और मध्यम कोविड-19 संक्रमण के इलाज में कारगर है ‘आयुष-64’

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव