जिले के सबसे बड़े कोविड-19 अस्पताल का सीएम योगी ने किया उद्घाटन

 अत्याधुनिक उपकरणों से लैस अस्पताल में मिलेंगी निजी हॉस्पिटल जैसी सुविधाएं : अतुल गर्ग 


नोएडा। सेक्टर-39 स्थित जिला अस्पताल की बिल्डिंग में 400 बिस्तरों के कोविड अस्पताल की शुरुआत हो गई। प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को उद्घाटन किया। फिलहाल इस हॉस्पिटल में 167 बिस्तरों पर ही कोरोना मरीजों का उपचार किया जाएगा। वर्तमान में इस अस्पताल में 28 बिस्तरों वाले तीन आईसीयू, 09 बिस्तरों वाले एक इमरजेंसी, 65-65 बिस्तरों वाले दो वार्ड, डायलिसिस यूनिट, सिटी स्कैन और लैब की व्यवस्था की गई है। जरूरत अनुसार बिस्तरों की संख्या में इजाफा किया जाएगा। सरकार की कोशिश है कि इस अस्पताल के सभी 400 बिस्तरों की सुविधा अतिशीघ्र लोगों उपलब्ध करा दी जाए। 


हॉस्पिटल के उद्घाटन के बाद प्रदेश के स्वास्थ्य राज्यमंत्री अतुल गर्ग ने बताया कि यह जिले में सबसे बड़ा आधुनिक कोविड अस्पताल है। अस्पताल का निर्माण नोएडा प्राधिकरण ने किया है। इस पर 344 करोड़ रुपये की लागत आई है। जबकि टाटा समूह और बिल एंड मिलिंडा गेट्स फाउंडेशन ने करीब 17 करोड़ की लागत से अस्पताल में संसाधन जुटाए हैं। यहां प्रथम तल पर आईसीयू व इमरजेंसी और पांचवें तल पर आइसोलेशन वार्ड बनाया गया है। इसके अलावा द्वितीय तल पर डायलिसिस यूनिट व सिटी स्कैन की व्यवस्था की गई है। 


स्वास्थ्य राज्यमंत्री ने बताया कि यह वर्तमान में सेक्टर-30 स्थित चाइल्ड पीजीआई में 50 और ग्रेटर नोएडा स्थित राजकीय आयुर्विज्ञान संस्थान (जिम्स) में 150 बेड की सुविधा कोविड मरीजों के लिए उपलब्ध है। यहां करीब 100 स्वास्थ्य कर्मियों की ड्यूटी लगाई जाएगी। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग ने डॉक्टरों की लिस्ट तैयार कर ली है। फिलहाल इस हॉस्पिटल में मरीजों के इलाज के लिए 28 नियमित डॉक्टरों की नियुक्ति की गई है। जरूरत के मुताबिक इस संख्या में और इजाफा किया जाएगा। 


अतुल गर्ग ने बताया कि सेक्टर-39 का इस हॉस्पिटल में किसी भी निजी अस्पताल जैसी स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी। सरकार की कोशिश है कि इस अस्पताल में एम्स जैसी सुविधाएं मरीजों को मिले। उन्होंने दावा कि इस हॉस्पिटल से पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कई जिलों के मरीजों को लाभ मिलेगा। 


 


 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

*सेक्टर १२२ में लेडीज़ क्लब ने धूमधाम से मनाई - डांडिया नाइट *

हल्के और मध्यम कोविड-19 संक्रमण के इलाज में कारगर है ‘आयुष-64’

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव