यथार्थ अस्पताल की लूट फिर हुई उजागर ,कोरोना की भेंट चढ़ गए ट्रांसपोर्ट नगर संघर्ष के सक्रिय योद्धा कालू राम शर्मा

 यथार्थ हॉस्पिटल की लूट प्रशासन की चुप्पी से खफा है नोएडा ट्रांसपोर्ट संयुक्त मोर्चा : चौधरी वेदपाल सिंह


नोएडा। उत्तर प्रदेश की सबसे बड़ी औद्योगिक नगरी नोएडा में ट्रांसपोर्ट नगर के संघर्ष में सक्रिय भूमिका निभाने वाले नोएडा ट्रांसपोर्ट संयुक्त मोर्चा के महासचिव कालू राम शर्मा गुरुवार को कोरोना की भेंट चढ़ गए। वह 47 वर्ष के थे। उनके इलाज में यथार्थ अस्पताल की लूट फिर उजागर हुई, लेकिन प्रशासन पहले की तरह मौन ही रहा। 


नोएडा ट्रांसपोर्ट संयुक्त मोर्चा के अध्यक्ष चौधरी वेदपाल सिंह ने बताया कि 15 जून को खांसी बुखार की शिकायत होने पर भंगेल स्थित यथार्थ अस्पताल में दाखिल कराया गया था। वहां इलाज से उनकी हालत में सुधार नहीं हुआ। उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया। 20 जून को उन्हें कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद बिसरख स्थित यथार्थ अस्पताल में शिफ्ट किया गया। वहां भी उनकी हालत में कोई सुधार नहीं हुआ। आखिर, गुरुवार की सुबह करीब तीन बजे निठारी निवासी नन्द किशोर शर्मा उर्फ कालू राम शर्मा जिंदगी की जंग हार गए। सेक्टर 94 स्थित अंतिम निवासी में गुरुवार को उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया। कालू राम शर्मा के परिवार में उनकी 80 वर्षीय मां, पत्नी और दो बेटे रोहित शर्मा व लक्की शर्मा हैं।


चौधरी वेदपाल सिंह ने बताया कि कालू राम शर्मा के असमय निधन से नोएडा ट्रांसपोर्ट संयुक्त मोर्चा की बड़ी क्षति हुई है। उन्होंने बताया कि नोएडा में ट्रांसपोर्ट नगर बसाने के लिए छेड़े गए संघर्ष में कालू राम शर्मा बीते 16, 17 वर्ष से सक्रिय रहे। 


नोएडा के अस्पतालों की लूट से खफा नोएडा ट्रांसपोर्ट संयुक्त मोर्चा के अध्यक्ष ने बताया कि खांसी बुखार के मरीज से यथार्थ हॉस्पिटल ने ईलाज के दौरान लगभग 5 लाख 25 हजार रुपये ले लिया। इसके बाद और पैसों की मांग की जा रही है। उन्होंने बताया कि कालू राम शर्मा छोटे ट्रांसपोर्टर थे। उनके इलाज का अधिकतर पैसा एसोसिएशन के दूसरे सदस्यों ने जमा कराए थे। वह कोरोना संक्रमित थे, लेकिन तमाम दावों के बावजूद सरकारी तौर पर उन्हें कोई मदद नहीं मिली।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

*सेक्टर १२२ में लेडीज़ क्लब ने धूमधाम से मनाई - डांडिया नाइट *

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव

हल्के और मध्यम कोविड-19 संक्रमण के इलाज में कारगर है ‘आयुष-64’