चार दिवसीय टेक्सटाइल मेला शुरू ,राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त शिल्पी भी प्रदर्शित कर रहे हैं अपने उत्पाद 

नई दिल्ली। वर्चुअल मोड पर आयोजित पहले आईएचजीएफ टेक्सटाइल मेले का सोमवार को शुभारंभ हो गया। इस अवसर पर हस्तशिल्प निर्यात संवर्धन परिषद (ईपीसीएच) के चेयरमैन रवि के. पासी, वाइस चेयरमैन राज कुमार मल्होत्रा, नावेद उर-रहमान, मेले के प्रेसीडेंट रवींद्र नाथ, वाइस प्रेसीडेंट्स विनय कनोडिया, मोहित सिंघल और प्रशासनिक कमेटी के सदस्य मौजूद रहे। 


ईपीसीएच के चेयरमैन रवि के पासी ने बताया कि कोविड महामारी के संकट के चलते पूरी दुनिया में वास्तविक मेले और आयोजन स्थगित हो गए हैं। ऐसी विकट स्थिति से निपटने के लिए ईपीसीएच ने मेलों को वर्चुअल प्लेफार्म पर आयोजित करने की शुरुआत की है। मेले का उद्घाटन करते हुए रवि. के पासी ने कहा कि भारतीय हस्तशिल्प निर्यातक समुदाय का मनोबल ईपीसीएच द्वारा आयोजित अपनी तरह के पहले वर्चुअल मेले इफ्जास (आईएफजेएएस) के सफल आयोजन से काफी बढ़ गया है। इस मेले में 150 करोड़ की गंभीर बिजनेस इंक्वायरी की गयी थी। उम्मीद की जा रही है कि वर्चुअल मोड पर आयोजित इस आईएचजीएफ टेक्सटाइल मेले से प्रतिभागियों का मनोबल और बढ़ेगा और कोविड महामारी के इस संकटकाल में अपने व्यापार को आगे ले जाने के लिए सदस्य निर्यातकों को एक सटीक रास्ता दिखेगा, जिससे वे बड़ी संख्या में 13 से 18 जुलाई, 2020 के बीच आयोजित होने वाले वर्चुअल मोड पर आईएचजीएफ-दिल्ली स्प्रिंग 20 मेले में शिरकत करेंगे। उन्होंने अपनी बात को विस्तार देते हुए कहा कि इस अभिनव प्रयोग से निश्चित रूप से निर्यातकों को कोरोना महामारी के दारौन उभरी चुनौतियों से निपटने के लिए तैयार होने में मदद मिलेगी। साथ ही इससे उन्हें अपनी व्यापारिक गतिविधियों को तुरंत शुरु करने का प्रोत्साहन भी मिलेगा। 
 
ईपीसीएच के कार्यकारी निदेशक आरके वर्मा ने बताया कि वर्चुअल मोड पर आयोजित आईएचजीएफ टेक्सटाइल मेले में प्रतिभागियों ने जिन श्रेणी के उत्पादों का प्रदर्शन किया है, उनमें होम फर्निशिंग, फ्लोर कवरिंग और टेक्सटाइल हस्तशिल्प शामिल हैं। ये उत्पाद निर्यात सेक्टर के महत्वपूर्ण अंग हैं और इन वस्तुओं के सबसे बड़े बाजार अमरीका और यूरोप हैं। वित्तीय वर्ष 2019-20 में इन आइटमों का निर्यात देश से हुए कुल हस्तशिल्प निर्यात का 25 प्रतिशत था जो करीब 6200 करोड़ रुपये के आसपास था। 


मेले के प्रेसिडेंट रविंदर नाथ ने सभी प्रतिभागियों, विदेशी ग्राहकों, बाइंग प्रतिनिधियों, वॉल्यूम रिटेल ग्राहकों का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि कोविड 19 वैश्विक महामारी के संकट काल में ईपीसीएच द्वारा किया गया अपनी तरह का पहला और नया प्रयोग वक्त की जरूरत है। पूरी दुनिया लॉकडाउन की स्थिति में है, लेकिन कहा जाता है कि शो मस्ट गो ऑन, इसी से प्रेरित होकर ईपीसीएच ने आप सभी के सामने वर्चुअल मेले की नई शुरुआत की है, जो आने वाले कुछ समय तक न्यू नार्मल रहने वाला है। साथ ही ये हम सभी के लिए संभावनाओं के कई नए द्वार भी खोलेगा। 


मेले के वाइस प्रेसीडेंट विनय कनोडिया ने कहा कि ऐसे चुनौतीपूर्ण समय में ईपीसीएच ने वर्चुअल मोड पर आईएचजीएफ टेक्सटाइल मेला आयोजित कर अंतरराष्ट्रीय ग्राहकों और भारतीय निर्यातकों को वर्चुअल मोड पर बिजनेस करने का बेहतरीन माध्यम उपलब्ध कराया है। मेले के दूसरे वाइस प्रेसीडेंट मोहित सिंघल ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय यात्राओं पर इस समय रोक है और कोविड वैश्विक महामारी की वजह से व्यापार पर भी संकट है। इन चुनौतियों से निपटने के लिए हस्तशिल्प निर्यात संवर्धन परिषद ने होम टेक्सटाइल्स और फ्लोर करवरिंग्स के लिए आईएचजीएफ टेक्सटाइल मेले का आयोजन 15 से 18 जून 2020 तक वर्चुअल मोड पर किया है। इस आयोजन से अंतरराष्ट्रीय व्यापारिक समुदाय बिना यात्रा और भय के व्यापार कर सकेगा। उन्होंने अपने सहभागी निर्यातकों से अपील की कि वो इस वर्चुअल माध्यम का इस्तेमाल कर ग्राहकों से बड़े और अच्छे आर्डर प्राप्त करने मे ज्यादा से ज्यादा करें। यही ग्राहकों को रोके रखने में सफल होने एक मात्र मंत्र है।  


ईपीसीएच के कार्यकारी निदेशक आरके वर्मा ने सभी का आभार व्यक्त किया। उन्होंने सभी विदेशी ग्राहकों, प्रतिभागियों का स्वागत करते हुए अगले चार दिनों में सर्वोत्तम बिजनेस के लिए बधाई भी दी। 


इस मेले में सिर्फ विदेशी ग्राहक ही नहीं, बड़ी संख्या में घरेलू रिटेल वाल्यूम ग्राहक भी शामिल होंगे। इनमें बॉम्बे स्टोर लिमिटेड, सिनर्जी लाइफ स्टाइल्स, फैब इंडिया ओवरसीज प्राइवेट लिमिटेड, गुडअर्थ डिजाइन प्राइवेट लिमिटेड, रिलायंस रिटेल, वॉलमार्ट, एशियन पेंट्स लिमिटेड, रेमंड लिमिटेड, स्लीपवेल जैसे बड़े और नामी-गिरामी ब्रांड्स ने अपनी आवश्यकता के हिसाब से शिरकत करने के लिए रजिस्ट्रेशन कराया है।


इस चार दिवसीय आयोजन के प्रमुख आकर्षणों में रोचक जानकारियों वाले वेबिनार्स, राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त शिल्पियों की कला का प्रदर्शन भी शामिल है। इस आयोजन का समय 11 बजे सुबह से रात 11 बजे तक है हालांकि वर्चुअल प्लेटफार्म तो 24 घंटे खुला ही रहेगा।