तेलंगाना की घटना ने पूरे देश को शर्मसार किया, दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई हो: अनुप्रिया पटेल

 


अपना दल (एस) की राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमती अनुप्रिया पटेल ने कहा, “महिलाओं की सुरक्षा के लिए ठोस कदम उठाया जाए, ताकि इस तरह की घटनाओं की पुनरावृत्ति न हो”


नई दिल्ली/लखनऊ


पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं अपना दल (एस) की राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमती अनुप्रिया पटेल ने तेलंगाना में पिछले सप्ताह महिला डॉक्टर से रेप के बाद हुए जघन्य हत्याकांड का मामला सोमवार को लोकसभा में उठाया और इस घटना पर दु:ख प्रकट करते हुए दोषियों के खिलाफ सख्त कदम उठाते हुए देश की आधी आबादी की सुरक्षा के लिए पुख्ता कदम उठाने की मांग की।


श्रीमती अनुप्रिया पटेल ने लोकसभा में अपनी बात रखते हुए कहा,


“यत्र नार्यस्तु पूज्यंते रमन्ते तत्र देवता:।“


श्रीमती पटेल ने इस श्लोक के माध्यम से कहा कि हमारे समाज में नारी को देवी का रुप माना गया है, शास्त्रों में कहा गया है कि जहां पर नारी का सम्मान होता है, वहां पर देवी का निवास होता है, बावजूद इसके भारत में इस तरह की घटना ने पूरे देश को शर्मसार किया है।


श्रीमती अनुप्रिया पटेल ने नाराजगी जताते हुए कहा कि इस घटना ने देश की भावनाओं को आहत किया है। इसे कतई बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। उन्होंने इस मामले में राज्य सरकार के रवैये की भी निंदा की। बता दें कि पीड़ित के परिवार को इस मामले में एफआईआर दर्ज कराने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ी। श्रीमती पटेल ने कहा कि मुख्यमंत्री को इस मामले में फास्ट ट्रैक कोर्ट के गठन में तीन दिन लग गए।


श्रीमती पटेल ने कहा कि इस तरह की दुष्कर्म एवं निर्मम हत्याओं की घटनाएं बार-बार होती हैं और हर बार सदन इसी तरह निंदा करता है और एक साथ मांग करता है कि इस तरह की घटनाओं पर नियंत्रण हो। लेकिन कहीं न कहीं मुझे लगता है कि राज्य सरकारें इस मामले में पूरी तरह से नाकाम साबित हो रही है। हम महिलाओं को सुरक्षित एवं महफूज रख सकते हैं, इसमें हम सक्षम हैं। लेकिन यह कड़ा संदेश हम नहीं दे पा रहे हैं। इसलिए आज मैं अपनी पार्टी अपना दल (एस) की तरफ से सदन के माध्यम से मांग करती हूं महिलाओं के साथ अब इस तरह की घटनाओं की पुनरावृत्ति न हो। ठोस कदम उठाया जाए।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

*सेक्टर १२२ में लेडीज़ क्लब ने धूमधाम से मनाई - डांडिया नाइट *

हल्के और मध्यम कोविड-19 संक्रमण के इलाज में कारगर है ‘आयुष-64’

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव