आरपीआई को कम से कम 10 सीटें मिलनी चाहिए : आठवले













  



 







 


 






नई दिल्ली । रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (आ)के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं भारत सरकार के सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्यमंत्री मा.

रामदास आठवले ने कहा कि महाराष्ट्र के विधानसभा चुनाव में आरपीआई को कम से कम 10 सीटें मिलनी चाहिए और शीघ्र ही सीटों का बंटवारा भी हो जाना चाहिए ऐसा अनुरोध मैंने भाजपा के उच्च स्तरीय नेतृत्व से हुई वार्ता में किया  है ।उन्होंने कहा कि यदि शीघ्र सीटों का बंटवारा हो जाएगा तो भाजपा  शिवसेना आरपीआई सहित अन्य गठबंधन को 240 सीटें पर विजय मिलना  निश्चित है। श्री आठवाले ने कहा कि देश के यशस्वी प्रधानमंत्री मा. नरेंद्र मोदी जी के द्वारा लिए गए ऐतिहासिक निर्णयों एवं देवेन्द्र  फडणवीस जी  नेतृत्व में महाराष्ट्र प्रदेश में पुनः एक बार फिर से भाजपा ,शिवसेना आरपीआई सहित अन्य सहयोगी दलों के नेतृत्व में सरकार बनेगी ।

 

आरपीआई के राष्ट्रीय अध्यक्ष मा.रामदास आठवले ने जारी एक प्रेस बयान में कहा कि देश के गृह मंत्री मा.अमित शाह महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री मा. देवेंद्र फडणवीस व भाजपा के महाराष्ट्र प्रदेश अध्यक्ष दादा चंद्रकांत पाटील से मेरी सकारात्मक वार्ता हो चुकी है और रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया(आ) को प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों की 10 विधानसभा  सीटों पर चुनाव लड़ने की मैंने अनुरोध किया है ।श्री आठवले ने कहा कि विगत लोकसभा चुनाव में भाजप आरपीआई शिवसेना गठबंधन के नेतृत्व में महाराष्ट्र प्रदेश में ऐतिहासिक जीत मिली है और  आगामी विधानसभा चुनाव में भी ऐतिहासिक जीत मिलना निश्चित  है ।श्री आठवले ने कहा कि कांग्रेस एवं राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता  लगातार अपनी पार्टी को छोड़कर भाजप शिवसेना ज्वाइन कर रहे हैं इससे यह साबित होता है कि महाराष्ट्र में भाजप शिवसेना आरपीआई गठबंधन को ऐतिहासिक जीत मिलने वाली है ।

श्री आठवले ने कहा कि सीटों के बंटवारे के संदर्भ में शीघ्रनिर्णय लिए जाने का अनुरोध मैंने भाजपा और शिवसेना हाईकमान से किया है ताकि अपने अपने क्षेत्र में पार्टियों के कार्यकर्ता सक्रिय होकर विजय सुनिश्चित कर सकें।





इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

*सेक्टर १२२ में लेडीज़ क्लब ने धूमधाम से मनाई - डांडिया नाइट *

हल्के और मध्यम कोविड-19 संक्रमण के इलाज में कारगर है ‘आयुष-64’

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव