समस्याओं को दूर करने के लिए अलग से एक जलशक्ति मंत्रालय भी बनाया जाएगा

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने आज ओड़िशा के संबलपुर में आयोजित एक विशाल जन-सभा को संबोधित किया और कांग्रेस पार्टी और बीजद पर ओडिशा के साथ अन्याय करने को लेकर जम कर हमला किया।


 


श्री मोदी ने कहा कि पहले चरण के मतदान के बाद ओडिशा से और देश भर से जो रुझान आ रहे हैं, वे बताते हैं कि इस बार केंद्र में और ओडिशा में भी भारतीय जनता पार्टी सरकार आ रही है। महामिलावट वाले समझ ही नहीं पा रहे हैं कि देश मुझे इतना प्यार  क्यों कर रहा है।


 


प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारे देश में सरकार के पास पैसों की कमी नहीं है। कमी रही है उस पैसे के सही इस्तेमाल की और विकास करने की नीयत की। पहले की सरकारों ने कभी ध्यान नहीं दिया कि केंद्र से जो पैसे भेजे जा रहे हैं, उसका लाभ ओड़िशा की जनता तक पहुंच रहा है या नहीं। पहले 100 पैसों में से सिर्फ 15 पैसे अगर आप तक पहुंच रहे थे तो क्या विकास हो पाता? आजादी के इतने सालों तक ये भ्रष्टाचार चल रहा था लेकिन इसे कोई रोकने वाला नहीं था। अब केंद्र की भारतीय जनता पार्टी सरकार ने, आपके इस चौकीदार की सरकार ने ये व्यवस्था बनाई है कि सरकार अगर सौ पैसे भेजे, तो पूरे सौ पैसे देश के गरीबों पर खर्च हों।


 


श्री मोदी ने कहा कि देश की जनता के आशीर्वाद से भाजपा की मजबूत सरकार लोक-कल्याण और राष्ट्र कल्याण से जुड़े बड़े-बड़े काम कर पाई है, वरना इससे पहले आपने दिल्ली में एक मजबूर और भ्रष्ट सरकार भी देखी है। ये वो सरकार थी जो आपको मिलने वाली चीनी में घोटाला कर जाती थी। ये वो सरकार थी जो आपको मिलने वाले राशन में घोटाला कर जाती थी। ये वो सरकार थी जो किसानों को मिलने वाले यूरिया में घोटाला कर जाती थी। ये वो सरकार थी, जो जमीन से निकलने वाले खनिजों औऱ कोयले तक में घोटाला कर जाती थी। ये पहले की भ्रष्ट और कमजोर सरकारों का ही परिणाम है कि आज़ादी के इतने वर्ष बाद भी संपन्न ओडिशा की जनता गरीब ही रही। क्षेत्र के आधार पर भेदभाव, जात-पात के आधार पर भेदभाव, यही कांग्रेस और बीजेडी की उपलब्धि रही है। जब इस चौकीदार ने विपक्षियों के भ्रष्टाचार के कारोबार पर प्रहार किया तो इनको इतना कष्ट हुआ है कि ये मुझे रास्ते से हटाना चाहते हैं।


 


प्रधानमंत्री ने कहा कि केंद्र की तरफ से ओडिशा की मदद के लिए करोड़ों रुपये भेजे गए, लेकिन राज्य सरकार उनका सही इस्तेमाल नहीं कर रही है। जो चावल चौकीदार की सरकार भेजती है, वह बीजद सरकार अपना बताकर लोगों को देती है। चिटफंड और खनन माफिया को ही अगर सरकारें संरक्षण देती रहेंगी, तो सामान्य मानवी की चिंता कैसे संभव है। कोल ब्लॉक घोटाले में किस तरफ उंगलियां उठी हैं, ये भी ओडिशा के लोग भली-भांति जानते हैं। जिनकी प्राथमिकता सिर्फ पीसी की रही हो, कट की रही हो, मलाई खाने की रही हो, उनको आपकी चिंता कैसे होगी? यही कारण है कि आजादी के इतने साल बाद भी इतना संपन्न ओडिशा धीरे-धीरे गरीब बनता चला गया।


 


श्री मोदी ने कहा कि यहाँ ज़मीन के नीचे की संपदा, यहां के जंगलों की समृद्धि, ओडिशा की शक्ति है। ओडिशा की यही शक्ति भारत को ताकत दे रही है लेकिन इन जंगलों में रहने वालों की पूछ नहीं, बल्कि उनसे साथ लूट हुई। आपके इस चौकीदार ने बरसों पुराना खनन कानून बदला। ये तय किया कि जो भी संपदा यहां से निकलती है, उसका एक निश्चित हिस्सा यहीं के विकास में लगना ज़रूरी है।


 


प्रधानमंत्री ने कहा कि देश के किसानों को, उनकी छोटी-छोटी जरूरतों के लिए बैंक में सीधे पैसा ट्रांसफर करने के लिए ये चौकीदार प्रतिबद्ध है। बल्कि हमने तो अब इसका दायरा बढ़ाने का संकल्प लिया है। 23 मई को जब मोदी सरकार फिर से सत्ता में आएगी तो ओडिशा के हर किसान के खाते में नियमित रकम की व्यवस्था करेंगे। अभी तक इस पर 2 हेक्टेयर तक की लिमिट थी लेकिन अब इसे हटाकर हर किसान को पैसा दिया जाएगा। हमारी सरकार आने के बाद हर किसान के खाते में पैसे जाएंगे और कोई हाथ पंजा नहीं मार पाएगा। हमारा ये भी संकल्प है कि 23 मई को जब फिर एक बार मोदी सरकार आएगी तब गरीबों को घर देने की स्पीड और बढ़ाई जाएगी। बीते 5 वर्ष में ओडिशा के गांवों में लगभग 12 लाख से अधिक पक्के घर मिल चुके हैं। साल 2022 तक ओडिशा के हर गरीब, वंचित, पिछड़े, आदिवासी परिवार के पास अपना पक्का घर हो, ये लक्ष्य लेकर हम चल रहे हैं। इतना ही नहीं, ओड़िशा में जो नई भाजपा सरकार बनेगी, वह ओडिशा में आयुष्मान भारत योजना भी लागू करेगी। ये योजना लागू होने के बाद यहां के गरीब परिवार को 5 लाख रुपए तक का मुफ्त इलाज पूरे देश के अस्पतालों में हो सकेगा। 23 मई को जब दिल्ली में हमारी सरकार बनेगी तो मछलीपालन से जुड़े लोगों के कल्याण के लिए मत्स्य मंत्रालय भी बनाया जाएगा। इसके अतिरिक्त पानी से जुड़ी समस्याओं को दूर करने के लिए अलग से एक जलशक्ति मंत्रालय भी बनाया जाएगा जिससे ओडिशा और देश के तटीय इलाके में रहने वाले लोगों के कल्याण के लिए पहल की जा सके। इसके तहत देशभर की नदियों के, समुद्र के, बारिश के पानी को जरुरतमंदों तक पहुंचाने का मिशन चलाया जाएगा। इससे पानी से जुड़ी समस्याएं कम हो पाएंगी।


 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सुपरटेक टावर के ध्वस्त होने के बाद बढ़ेंगी स्वास्थ्य चुनौतियां, रखें ये सावधानियॉ

गोविंद सदन दिल्ली के संस्थापक बाबा विरसा सिंह के आगमन दिवस पर गुरमत समागम का आयोजन

साई अपार्टमेंट सेक्टर 71 में लगाया गया टीकाकरण शिविर