सोशल मीडिया पर लेपर्ड के संबंध में वायरल वीडियो गाजियाबाद का नहीं नैनीताल का

जनपद में लेपर्ड के संबंध में जिला अधिकारी अजय शंकर पांडेय के द्वारा जिला वनाधिकारी के साथ की गई महत्वपूर्ण बैठक


डीएफओ ने बताया लेपर्ड के संबंध में ड्रोन ट्रैकिंग की गई परंतु कुछ पता नहीं चला


 जिलाधिकारी ने ऐसे वीडियो वायरल करने वालों के विरुद्ध कार्यवाही शुरू करने के संबंध में संबंधित अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए


 डीएफओ ने यह भी बताया कि लेपर्ड के वापस जाने के संबंध में टीम बुलाई गई है उनकी रिपोर्ट के आधार पर अधिकारिक जानकारी दी जाएगी


Ghaziabad 


जिलाधिकारी अजय शंकर पांडेय ने सभी जनपद वासियों का आह्वान किया है कि जब तक उन्हें लेपर्ड के संबंध में आधिकारिक जानकारी नहीं दी जाती तब तक सभी नागरिक अपने घरों में सुरक्षित रहें और अपने बच्चों को घरों में सुरक्षित रखें जनपद में लेपर्ड होने की सूचना को लेकर जिलाधिकारी निरंतर रूप से गंभीरता के साथ कार्यवाही कर रहे हैं। इस श्रृंखला में आज जिलाधिकारी अजय शंकर पांडेय ने डीएफओ के साथ महत्वपूर्ण बैठक आहूत की जिसमें डीएफओ ने जिलाधिकारी को अवगत कराया कि लेपर्ड के संबंध में वन विभाग के अधिकारियों द्वारा ड्रोन कैमरे से निगरानी की गई परंतु लेपर्ड के बारे में कुछ जानकारी प्राप्त नहीं हुई है। लेपर्ड के शहर से बाहर जाने के संबंध में टीम बुलाई गई है उनकी रिपोर्ट के आधार पर अधिकारिक जानकारी नागरिकों को उपलब्ध कराई जाएंगी।


डीएफओ ने यह भी बताया कि जनपद में लेपर्ड के संबंध में जो वीडियो वायरल किया जा रहा है वह जनपद गाजियाबाद का न होकर नैनीताल जनपद का है। इस संबंध में जिलाधिकारी अजय शंकर पांडेय ने स्पष्ट किया है कि सोशल मीडिया के माध्यम से जो व्यक्ति समाज में भ्रम फैलाने का कार्य कर रहे हैं उनके विरूद्ध कार्यवाही जिला प्रशासन एवं पुलिस के द्वारा सुनिश्चित की जाएगी। इस संबंध में कार्यवाही आरंभ कर दी गई है। जिलाधिकारी ने सभी नागरिकों का यह भी आह्वान किया है कि जब तक लेपर्ड के संबंध में शहर से बाहर जाने की जानकारी आधिकारिक रूप से नागरिकों को नहीं दी जाती तब तक सभी नागरिक अपने को सुरक्षित बनाए रखें और अपने बच्चों को घरों में सुरक्षित रखें। 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हल्के और मध्यम कोविड-19 संक्रमण के इलाज में कारगर है ‘आयुष-64’

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस: भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव

आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए हुआ " श्रीमती माधुरी सक्सेना कंप्यूटर शिक्षण केंद्र" का उद्घाटन